Get Indian Girls For Sex
   

पापा और मौसी का सेक्स बोबे दबा दबा कर मोटे कर डाले xxx stories in hindi

Christmas Mom blowjob sex and Creampie Mom And Step Son i suck my moms tits Big Boobs Full HD Porn00017

पापा और मौसी का सेक्स बोबे दबा दबा कर मोटे कर डाले xxx stories in hindi Christmas Mom blowjob sex and Creampie Mom And Step Son i suck my moms tits Big Boobs Full HD Porn00017

पापा और मौसी का सेक्स बोबे दबा दबा कर मोटे कर डाले xxx stories in hindi : हैल्लो दोस्तों मेरा नाम रितेश है और मेरी उम्र 22 साल की है. मेरी हाईट 5.4 इंच है.. रंग गोरा और लंड का साईंज 8 इंच है और में एक कॉलेज में पढ़ता हूँ. दोस्तों आज में जो कहानी बताने जा रहा हूँ वो एकदम सच्ची है दोस्तों ये कुछ 10 महीने पुरानी बात है.. जब में कॉलेज के 1st ईयर में था.

मुझे अभी भी शायद याद है वो जनवरी का महीना था और बहुत ठंड पड़ रही थी. xxx stories in hindi

तभी अचानक मेरी माँ बीमार हो गयी और उन्हे तुरंत हॉस्पिटल में भर्ति किया गया. फिर घर पर मेरे अलावा मेरे 2 छोटे भाई और एक बहिन भी थी.. जो स्कूल में पढ़ते थे. फिर जब माँ हॉस्पिटल में होती थी तो बच्चो का खाने बनाने की समस्या होती थी इसलिए मेरी माँ ने अपनी छोटी बहन यानि कि मेरी मौसी को फोन करके कुछ दिनों के लिए बुला लिया. xxx stories in hindi

मौसी को लेने पापा खुद रेलवे स्टेशन गये. फिर मौसी के आने से घर का खाना हम सभी सदस्यों को फिर से नसीब होने लगा था और बच्चे भी बहुत खुश थे.

मौसी अपने दो लड़को के साथ आई थी उनके पति सरकारी दफ़्तर में चपरासी है. xxx stories in hindi फिर कुछ दिन बाद ऐसे ही मेरी माँ की तबीयत बिगड़ती गयी जिसके कारण उन्हें एक महीना और हॉस्पिटल में रहना पड़ा.

तभी इन एक महीनों में मौसी हमारे साथ बहुत घुल मिल गयी. फिर वो कहीं पर भी जाती तो पापा के साथ उनकी बाईक पर उनके साथ बैठकर जाती.. जैसे कि वो उनकी पत्नी हो और ये बात मुझे बहुत ख़टकती थी. लेकिन में ज्यादा ध्यान नहीं देता था. फिर में कॉलेज को सुबह जाता था और शाम को वापस आता था और मेरे भाई बहन भी शाम को स्कूल से आते.

फिर दिन भर मौसी और उनके दो बच्चे घर पर रहते और पापा सुबह ऑफीस चले जाते. मौसी दिखने में थोड़ी सांवली और थोड़ी मोटी थी. लेकिन उनके बूब्स बहुत बड़े बड़े थे और बड़ी भारी गांड थी xxx stories in hindi और शायद उनका साईंज 36–34-40 होगा और मौसी हमेशा साड़ी पहनती थी और उनका ब्लाउज हमेशा टाईट होता था जिसमे से उनके बड़े बड़े बूब्स निकल कर आते थे.

मौसी हमेशा लाल कलर की लिपस्टिक लगाती थी और माथे पर बड़ा सा सिंदूर लेकिन मौसी का स्वभाव बहुत ही अच्छा था. वो पापा के साथ एक दोस्त वाला व्यवहार करती थी. फिर पापा हमेशा किचन में जाकर मौसी का हाथ बांटते लेकिन ये बदलाव उनमे अचानक कैसे आया.. समझ में नहीं आया. वो कभी भी माँ को घर के किसी भी काम में मदद नहीं करते थे.

फिर एक दिन में कॉलेज से जल्दी घर पर आ गया. तभी मैंने देखा कि पापा की बाईक सामने वाले पार्क में खड़ी थी और मौसी के दोनों बच्चे बाहर आँगन में खेल रहे थे. तभी में घर में अंदर गया फ्रेश हुआ लेकिन घर पर कोई भी नहीं था और फिर में पानी पीने किचन में जाता.. उससे पहले ही मुझे किचन में से कुछ खुसुर फुसुर आवाज़ आने लगी. xxx stories in hindi

फिर मैंने छुपके देखा और फिर जो कुछ मैंने उस वक्त देखा में उसे देखकर एकदम से दंग रह गया.. पापा किचन में मौसी की बाहों में थे और फिर वो दोनों एक दूसरे से लिपट कर चुंबन ले रहे थे.

तभी मौसी की आवाज़ आ रही थी.. आज के लिये बस करो ना अब बच्चे आ जाएँगे. फिर पापा ने कहा कि मेरी जान आज तुम मुझे मत रोको. फिर यह कहकर पापा ने मौसी को करीब दबा लिया xxx stories in hindi  और फिर वो उनकी पीठ को और गांड को पीछे से मसलकर मसाज करने लगे और मौसी हल्की हल्की आवाज़ कर रही थी शह्ह्ह्ह आह्ह्ह.

फिर मौसी अपने दोनों हाथ से पापा के बालों को सहलाने में लगी हुई थी. फिर पापा ने मौसी को उठाकर ऊपर बैठा दिया और उनकी साड़ी को ऊपर करके अपना एक हाथ अंदर डाल दिया और चूत के अंदर ऊँगली डाल दी.

मौसी के मुहं से सिसकियाँ निकलने लगी.. शायद वो अब गरम हो चुकी थी. फिर पापा ने एक हाथ से उनके बूब्स भी दबाने शुरू किये और एक हाथ से चूत की चुदाई.

तभी मौसी ने एकदम से उन्हें धक्का दिया और बोली जानू अब बस हो गया.. बाकी रात में करेंगे हर रोज की तरह. ये सुनकर में हैरान हो गया. फिर मुझे पता चल गया कि ये दोनों रोज रात में ऐसे ही हरकतें करते है.

फिर में कुछ देर टीवी देखता रहा और फिर टीवी की आवाज़ सुनकर पापा बाहर आ गये और फिर बोले तुम कब आए? तभी मैंने कहा कि अभी अभी एक मिनट पहले.

तभी पापा इतना सुनकर दूसरे रूम में चले गये लेकिन उनके चहरे से साफ साफ दिख रहा था कि वो मुझसे कुछ छुपा रहे है. फिर में सोचने लगा कि में अपने रूम में सोता था इसलिए मुझे पता नहीं चलता था कि क्या होता था. हमारा छोटा घर है.

एक बेडरूम जहाँ पर में अपने भाई बहन के साथ सोता हूँ और एक हॉल में मौसी अपने दोनों बच्चो के साथ सोती थी और पापा बालकनी में सो जाते थे.

तभी मैंने ठा