Get Indian Girls For Sex
   

(मैंने आंटी की चूत में पुरे का पूरा लंड एक ही झटके में घुसा दिया. आंटी ने अपने कुलहो को दोनों हाथो से खोला और लंड के पेनेट्रेशन को और भी डीप बनाया.)

12391245_143261086042935_1105392480687007892_n

मैं जैसे ही सुशिल के घर में दाखिल हुआ मैंने देखा की उसका घर पैसेदार लोगो के जैसा ही था. सुशिल को मैं तिन दिन पहले कंप्यूटर क्लास में मिला था. मेरी तरह वो भी कोलेज के फर्स्ट इयर में फेल हुआ था और उसकी मम्मी बिन्नो आंटी ने उसे टाइम बचाने के लिए कंप्यूटर क्लास ज्वाइन करवा दिए थे. आज मैंने पहली बार उसकी माँ को देखा था; करीब 39-41 की होंगी, चौड़ी छाती और सेक्सगांड. वैसे मैं आप लोगो को मेरे बारे में तो बताना ही भूल गया. मेरा नाम अनिल राजारी हैं और मैं 19 साल का हूँ, मुझे आंटी और भाभियों की चूत मारना बहुत ज्यादा ही पसंद है. सब से बड़ा फायदा आंटियो को रखेल बनाने में या उनके रखेल बन जाने में हैं क्यूंकि चूत की चूत मिलती हैं और पैसे का बोनस. मैंने भी एक टाका भिड़ा के रखा था दो महीने पहले. केराला के एक अंकल की बीवी थी, उसकी काली चूत में जम के मारता था, शायद इसलिए ही मैं फ़ैल भी हुआ था. उस आंटी के रखेल बनने का बड़ा फायदा यह था की उसका पति बड़ी पहचान वाला था तो किसी ठोले ने रास्ते में पकड़ भी लिया तो आंटी के साथ मोबाइल पर बात करवा दो, काम हो जाता था.
लेकिन वो आंटी के पति का तबादला हो गया और मैं रखेल से रंडवा हो गया और मुझे अभी ऐसी ही आंटी की तलाश थी. मुझे सेक्स का कीड़ा सुशिल की माँ बिन्नो में भी दिखा. मैंने उसी शाम सुशिल से बात कर के पता लगाया की उसके पिताजी का देहांत कुछ 4 साल पहले हुआ था. इसका मतलब 4 साल के बिन्नो आंटी की चूत तरसी हुई थी. मुझे लगा की यहाँ काँटा डाला तो बड़ी मछली फसेंगी. बिन्नो आंटी एक बेंक में काम करती थी और तगड़ी तनख्वाह लेती थी. मैं अगले दिन से सुशिल के घर ज्यादा से ज्यादा जाने लगा और आंटी को आँखों से ही चोदने लगा. आंटी सुशिल के होने के कारण शायद ज्यादा बात नहीं करती थी मेरे साथ. मैंने एक दिन सुशिल को मेरे दोस्त अनवर के साथ बाजू वाले गाँव भेज दिया और खुद सुशिल के वहाँ चला गया. शाम का वक्त था बिन्नो आंटी काम से आ गई थी. घर का नौकर थोड़ी देर पहले ही सब्जी लेने गया था. मैंने आंटी से सुशिल के बारे में पूछा. मुझे पता था की वो घर नहीं हैं फिर भी. आंटी ने कहा की वो घर नहीं हैं. मैंने कहा ठीक हैं आंटी में चलता हूँ. आंटी बोली अनिल आ तो सही, चाय शाय पी ले. मैंने मनोमन सोच रहा था आंटी तेरे चुंचो का दूध पिला मुझे बस….!

मैं सोफे पे बैठा और आंटी फ्रेश होके किचन में चली गई. थोड़ी देर में वो दो बड़े कप ले के आई और हम चाय पिने लगे. वो अपने घर की और सुशिल के बारे में बताने लगी. साथ में वो यह भी कहने लगी की पति के ना होने ससे उसे कितनी मुश्किलें पड़ रही हैं वगेरह वगेरह. मैं तुरंत समझ गया की आंटी तवा गरम कर रही हैं. यह औरत जब किसी को रखेल बनाना चाहती हैं या उस से चुदना चाहती हैं तो पहले रोने धोने से ही चालू करती हैं सब कुछ. बिन्नो आंटी ने जैसे अपने पत्ते फेंके मैंने भी अपनी स्क्रिप्ट चालू कर दी. मैंने भी कहा हां आंटी मैं समझता हूँ की एक जवान औरत को कितना दर्द होता है जब पति ना हो. (जवान कहो तो बूढी चूतें बहुत खुश हो जाती हैं.) आंटी मेरी तरफ अब अलग नजर से देख रही थी. उसने अब धीरे धीरे बात के टोन के बदल के मुझ से पूछा, अनिल तेरी और सुशिल की गर्लफ्रेंड भी होगी ना. मैंने कहा आंटी सुशिल का पता नहीं हैं मुझे लेकिन मेरी एक आंटी हैं फ्रेंड. बिन्नो आंटी हंस पड़ी और बोली, क्या आंटी. मैंने कहा, हाँ और मैंने उस रखेल आंटी के साथ सेक्स के अलावा सारी बाते बिन्नो आंटी को बता दी. बिन्नो आंटी हंसी और बोली, इसमें उस आंटी को क्या मिलता हैं. मैंने हंस के कहा, जो उसे अपने पति से नहीं मिलता हैं.

बिन्नो आंटी बोली, तू तो बदमाश लड़का हैं रे अनिल. क्या तू इस आंटी से सेक्स भी करता हैं. बीन्नो आंटी के मुहं से सेक्स सुन के मैं थोडा चमक सा गया, लेकिन फिर मैंने अपने और रखेल आंटी के किस्से बढ़ा चढ़ा के बिन्नो आंटी को बताये. जिस में मैंने सेक्स के बारे में भी जिक्र किया था. मुझे पता था की इस से बिन्नो आंटी की चूत में पसिना जरुर छूटेगा. वो थोड़ी हिल रही थी और मैंने देखा की उसके गाउन के अंदर उसके चुंचे भी कडक होने लगे थे. मैंने बिन्नो आंटी की बेताबी को भांप लिया और मैंने अब रखेल आंटी के साथ हुई मुलाक़ात और पहले सेक्स की बात सिंगल X ब्ल्यू फिल्म की स्क्रिप्ट के जैसे आंटी को बताई. तभी बिन्नो आंटी उठी और किचन में गई कप रखने के लिए. मुझे पता नहीं क्या हुआ मैं भी उसके पीछे चला गया. आंटी किचन के प्लेटफोर्म तरफ खड़ी हुई थी. उसकी चौड़ी सेक्सी गांड भूरे गाउन में सेक्सी लग रही थी. मैंने हाथ धोने के बहाने अपने लंड को आंटी के गांड से घिस दिया. मैंने हाथ धोए और देखा की आंटी चौंकी सी हैं. मैंने वापस जाने के वक्त वापस लंड को गांड से घिसा. अब आंटी से बिलकुल भी रहा नहीं गया और उसने पलट के मुझे बाहों में ले लिया. मैंने भी कस के उसे अपनी बाहों में दबोच लिया. आंटी के हाथ मेरी कमर को सहला रहे थे.
मेरा आंटीचोद कार्यक्रम चालू हो गया

मैंने एक हाथ उसकी गांड पे रखा और दुसरे हाथ से मैं उसके चुंचे दबाने लगा. आंटी बेतहाशा गर्म हो चुकी थी. उसने अपने हों